कान्हा नेशनल पार्क के बारे में जानकारी -Information about kanha national park in hindi

Table of Contents

कान्हा राष्ट्रीय उद्यान-Kanha National park

Bengal Tiger, Panthera tigris tigris, walking in Kanha National Park, India image credit to gettyimages

कान्हा नेशनल पार्क(kanha national park) भारत का सबसे बड़ा नेशनल पार्क है और यह मध्य प्रदेश में स्थित है। कान्हा राष्ट्रीय उद्यान भारत के राष्ट्रीय पशु बाघ के साथ-साथ अन्य महत्वपूर्ण जंगली जीवो का आवास स्थान है। यहां की सुंदरता और प्राकृतिक परिवेश को देखकर पर्यटक और वन्य जीव प्रेमी आश्चर्यचकित रह जाते हैं। इस विशाल पार्क की स्थापना 1955 ईस्वी में की गई थी। और 1974 ईस्वी में कान्हा नेशनल पार्क टाइगर रिजर्व क्षेत्र में संरक्षित कर दिया गया। 

तब से यहां पर बाघ के साथ-साथ कई लुप्त प्राय प्राणियों को यहां पर संरक्षित किया जाने लगा। लगभग 960 वर्ग किलोमीटर के क्षेत्र में फैले इस विशाल राष्ट्रीय उद्यान को दो भागों में विभाजित किया गया है इसके पहले भाग को हालन अभ्यारण और दूसरे भाग को बंजार अभ्यारण कहा जाता है।

कान्हा नेशनल पार्क भारत के साथ-साथ एशिया के सबसे बड़े पार्क के रूप में जाना जाता है यहां पर लगभग 30 स्तनधारी जीवो के साथ-साथ 300 जनजातियों के वन्य जीव यहां पर रहते हैं। यह राष्ट्रीय उद्यान रूड यार्ड किपलिंग की मशहूर किताब “द जंगल बुक” के नाम से भी प्रसिद्धि प्राप्त कर चुका है।

कान्हा नेशनल पार्क में पाए जाने वाले वनस्पति और जीव जंतु- animals and fauna in Kanha National park

दोस्तों अगर आप कान्हा नेशनल पार्क में घूमने जाना चाहते हैं तो और यह जानने को उत्सुक हैं कि यहां पर कौन-कौन से जानवर और वनस्पतियां पाई जाती हैं तो हम आपको जानकारी देने की यहां पर कुल 200 से अधिक प्रजाति की वनस्पतियां यहां पर पाई जाती हैं। वनस्पतियों में प्रमुख रूप से साल के पेड़, लैंडिया,आम, वाला, तेंदू, पलाश, महुआ और बांस के पेड़ भी शामिल है।

Indian Roller, Coracias benghalensis, perched on tree branch in Kanha National Park, Madhya Pradesh, India

इसके अलावा अगर जीव जंतुओं की बात की जाए तो यहां बाघों के लिए विशेष तौर पर मशहूर स्थान है यहां पर बाघों की लुप्त प्राय प्रजाति रॉयल बंगाल टाइगर पाए जाते हैं। बंगाल टाइगर के अलावा चीतल, सांभर, जंगली कुत्ते, की दोनों जंगली बिल्लियों, और तेंदुए की संख्या भी बेहद अधिक है।

इनके अलावा स्तनधारी जीवो में जंगली सूअर, आलसी भालू, लकड़बग्घा, काला हिरण, बैजर, इंडियन फॉक्स, भौंकने वाले हिरण, आदि पाए जाते हैं। सरीसृप में विशेष तौर पर यहां पर रसल वाइपर, अजगर, भारतीय, कोबरा, चूहा, क्रिएट, आदि कई प्रजातियों के सरीसृप यहां पर पाए जाते हैं।

Sloth Bear, Melursus ursinus, getting drink at waer hole, Kanha National Park, India, Asia

वही पंछियों की बात की जाए तो यहां पर लगभग पंछियों की 300 से अधिक प्रजातियां निवास करती हैं फोटोग्राफी और वीडियोग्राफी करने वाले शौकीन लोग इन्हीं पंछियों के खूबसूरत फोटो लेने के लिए यहां पर यात्रा करते हैं। इन पंछियों में सारस, तालाब बगुला, मोर, योद्धा, पड़वा, किंगफिशर, उल्लू, फ्लाई कैचर, ग्रीन कबूतर, रॉक कबूतर, कोयल आदि प्रमुख है।

कान्हा राष्ट्रीय उद्यान में स्थित है-Kanha National park is located in

कान्हा राष्ट्रीय उद्यान मध्य प्रदेश राज्य के मंडला जिले में स्थित एक कस्बा है। विशाल क्षेत्र लगभग 960 किलोमीटर लंबा है।

कान्हा राष्ट्रीय उद्यान किस राज्य में है-Kanha National park is in which State

कान्हा नेशनल पार्क भारत के मध्य प्रदेश राज्य में स्थित है।

कान्हा राष्ट्रीय उद्यान क्यों प्रसिद्ध है-Kanha National park is famous for

कान्हा नेशनल पार्क विशेष तौर पर बाघों को संरक्षण प्रदान करने के लिए मशहूर हुआ है। यहां पर भारत में स्थित कुल बाघों की 20% से अधिक जनसंख्या पाई जाती है।

कान्हा राष्ट्रीय उद्यान बाघों की आबादी-Kanha National park tiger population

कान्हा नेशनल पार्क में अगर बाघों की संख्या की बात करें तो यहां पर कुल 84 बाघ हैं और उनमें 43 बाघ के बच्चे भी पार्क में रहते हैं।

कान्हा नेशनल पार्क सफारी बुकिंग-Kanha National park Safari booking

कान्हा नेशनल पार्क में घूमने के लिए सफारी बहुत ही अच्छा विकल्प मानी जाती है आप जी बुक करके कान्हा नेशनल पार्क के जीवो को बेहद करीब से देख सकते हैं। जीप सफारी पर बैठकर मां को देखने का अनुभव बेहद रोमांचक होता है।

जीप सफारी दो तरह से बुक की जाती है सफारी के लिए  आप पूरी जीप बुक कर सकते हैं।जिसके लिए आपको 2000 से लेकर ₹3000 तक देने पड़े सकते हैं। इसके अलावा आप शेयर्ड जीप सफारी भी ले सकते हैं जिसका किराया 500 से लेकर 800 के मध्य होता है।

जीप सफारी दिन में दो स्लॉट के लिए चलाई जाती है। पहला स्लॉट सुबह 6:00 बजे से लेकर 11:00 बजे तक चलता है जबकि दूसरा स्लॉट 3:00 बजे से लेकर 6:00 बजे तक चलाया जाता है।

टिप्स

दोस्तों अगर आप कान्हा नेशनल पार्क में बाघों को देखना चाहते हैं तो हमारी यह सलाह है कि आप सुबह का जीप सफारी का स्लॉट बुक करें दिन में बाघों के दिखने की संभावना बेहद ज्यादा होती है।

Travelers ride elephants and photograph tigers in India’s Kanha National Park.

कान्हा नेशनल पार्क हाथी सफारी-Kanha National park elephant safari

कान्हा राष्ट्रीय उद्यान में एलीफेंट सफारी की भी सुविधा उपलब्ध है इसके लिए प्रति व्यक्ति 300 से ₹600 तक लिए जाते हैं यह सुबह के समय 6:00 बजे से लेकर 11:00 बजे तक उपलब्ध होती है।

कान्हा राष्ट्रीय उद्यान की आधिकारिक वेबसाइट-Kanha National park official website

कान्हा राष्ट्रीय उद्यान के आधिकारिक वेबसाइट पर अगर आप जाना चाहते हैं तो हम आपको जानकारी दे रहे हैं की आधिकारिक वेबसाइट कौन सी है आप इस लिंक पर क्लिक करके सीधा आधिकारिक वेबसाइट पर जा सकते हैं।

Https://balaghat.nic.in

कान्हा किस्ली नेशनल पार्क-Kanha kisli National park

कान्हा नेशनल पार्क को ही कान्हा किसली नेशनल पार्क कहा जाता है।

Indian Leopard taken at Kanha Tiger Reserve, Madhya Pradesh, India.

कान्हा नेशनल पार्क टिकट की कीमत-Kanha National park ticket price

कान्हा नेशनल पार्क की प्रति व्यक्ति टिकट ₹300 से लेकर ₹600 के मध्य ली जाती है।₹600 में आप हाथी की सफारी का लोग उठाएंगे जबकि अगर आप जीप सफारी का लाभ उठाना चाहते हैं तो आपको 1000 से लेकर ₹2000 तक भुगतान करने होंगे।

कान्हा नेशनल पार्क में रुकने की जगह-kanha National park resort 

अगर आप कान्हा नेशनल पार्क की यात्रा पर हैं और यहां रुकने के लिए किसी अच्छी जगह की तलाश में है तो हम आपको बता दें कि कान्हा नेशनल पार्क के पास मध्यम आकार से लेकर बड़े बजट की लग्जरी होटल उपलब्ध है क्योंकि कान्हा नेशनल पार्क देखने के लिए देश-विदेश से पर्यटक यहां पर आते हैं इन होटलों को आप ऑनलाइन या ऑफलाइन दोनों माध्यमों से बुक कर सकते हैं। इसके अलावा अगर आप चाहे तो हमारी वेबसाइट के पोस्ट के सबसे नीचे दिखाए जा रहे हैं aviasales के विज्ञापन पर क्लिक करके सस्ते होटल्स रूम और फ्लाइट टिकट बुक कर सकते हैं।

कान्हा नेशनल पार्क में मिलने वाला स्थानीय भोजन और रेस्टोरेंट-rastaurant and local food in Kanha National park

दोस्तों अगर आप कान्हा नेशनल पार्क घूम रहे हैं इस दौरान आपको भूख लग जाती है तो हम आपको जानकारी दें कि यहां पर स्थानीय व्यंजनों के साथ-साथ पूरे भारत के प्रसिद्ध भोजन आसानी से उपलब्ध होते हैं अगर आप यहां के स्थानीय भोजन ओं का स्वाद चखना चाहते हैं तो बिरयानी कोरमा बिरयानी पोहा जलेबी लड्डू शुद्ध लस्सी आदि चीजों को अपने खाने में शामिल करके स्थानीय व्यंजन का लुफ्त उठा सकते हैं।

कान्हा राष्ट्रीय उद्यान में घूमने का सबसे अच्छा समय-Best time to visit in Kanha National park

दोस्तों अगर आप कान्हा नेशनल पार्क घूमने का प्लान बना रहे हैं तो हम आपको जानकारी दीजिए यहां पर घूमने का सबसे अच्छा समय अक्टूबर से फरवरी के मध्य होता है। जगदी अप्रैल से लेकर सितंबर तक यहां का मौसम पर्यटन के लिए अनुकूल नहीं होता है।

भारत के प्रमुख शहरों से कान्हा राष्ट्रीय उद्यान की दूरी
दिल्ली से कान्हा राष्ट्रीय उद्यान-Delhi to kanha National park

998 किलोमीटर

जबलपुर से कान्हा राष्ट्रीय उद्यान-Jabalpur to Kanha National park

164 किलोमीटर

भोपाल से कान्हा राष्ट्रीय उद्यान-Bhopal to Kanha National park

450 किलोमीटर

बैंगलोर से कान्हा राष्ट्रीय उद्यान-Bangalore to Kanha National park

1356 किलोमीटर

झांसी से कान्हा राष्ट्रीय उद्यान-Jhansi to Kanha National park

540 किलोमीटर

इंदौर से कान्हा राष्ट्रीय उद्यान-Indore to Kanha National park

641 किलोमीटर

कान्हा नेशनल पार्क कैसे पहुंचे-How to reach kanha national park?
वायु मार्ग द्वारा

वायु मार्ग से कान्हा नेशनल पार्क बालाघाट पहुंचने के लिए यहां का निकटतम हवाई अड्डा बेरवा हवाई पट्टी है। यह जबलपुर डिविजन के अंतर्गत आने वाला हवाई अड्डा है। यहां से कान्हा नेशनल पार्क की दूरी मात्र 15 किलोमीटर है। जबलपुर हवाई अड्डा कान्हा नेशनल पार्क पहुंचने के लिए सबसे मुफीद हवाई अड्डा है यहां से नेशनल पार्क की दूरी 160 किलोमीटर की है।

ट्रेन द्वारा

बालाघाट रेलवे स्टेशन दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे के जबलपुर नैनपुर गोंदिया खंड पर बना हुआ रेलवे स्टेशन है। जबलपुर से बालाघाट के लिए सीधी ट्रेनें चलती हैं। गोंदिया रेलवे स्टेशन से कान्हा नेशनल पार्क की दूरी 140 किलोमीटर की है जबकि जबलपुर से 160 किलोमीटर की है।

सड़क परिवहन के द्वारा

सड़क परिवहन के द्वारा कान्हा नेशनल पार्क अगर आप आना चाहते हैं तो आपको पहले बालाघाट आना होगा बालाघाट से कान्हा नेशनल पार्क के लिए नियमित बसें आसानी से मिल जाएंगी।

ALSO READ

मध्यप्रदेश में स्थित नेशनल पार्क

ध्य प्रदेश में प्रमुख घूमने वाली जगहे

छतरपुर में घूमने लायक सबसे अच्छी जगहें

Leave a comment