जबलपुर में घूमने लायक प्रमुख जगहें

  • भेड़ाघाट धुआंधार जलप्रपात( Bhedaghat dhuandhar jalprapat)
  •  सी वर्ल्ड वाटर पार्क(sea world water park)
  • भेड़ाघाट मार्बल रॉक्स( bhedaghat marble rocks)
  • भेड़ाघाट नाव की सवारी( bhedaghat boat riding)
  • ट्रेजर आईलैंड  मॉल(treazer island mall) 
  • भेड़ाघाट केबल कार राइड( bhedaghat cable car ride)
  • बैलेंस इन रॉक( balancing rock) 
  • मदन महल किला( madan Mahal qila) 
  • चौसठ योगिनी मंदिर( chausath yogini mandir) 

जबलपुर नर्मदा नदी के किनारे बसा हुआ एक अत्यंत सुंदर शहर है। जबलपुर को औद्योगिक शहर के रूप में भी जाना जाता है। वर्तमान समय में अपने आकर्षित घाटों खूबसूरत झरने और प्राचीन संरचनाओं की शानदार प्रस्तुति के कारण यह प्रसिद्ध पर्यटक स्थलों में से एक माना गया है।

Contents hide
1 भेड़ाघाट धुआंधार जलप्रपात( bhedaghat dhuandhar jalprapat)

ब्रिटिश शासन काल में भी जबलपुर एक महत्वपूर्ण स्थान था। जबकि ब्रिटिश वास्तुकला की भी शानदार झलक जबलपुर शहर में देखने को मिल जाती है। मध्य प्रदेश के प्रसिद्ध पर्यटन स्थल राष्ट्रीय कान्हा उद्यान और बांधवगढ़ नेशनल पार्क भी जबलपुर नगर के पास में ही स्थित है। समुद्र तल से इसकी ऊंचाई 412 मीटर है।

यह चारों ओर से पर्वत और संगमरमर की चट्टानों से गिरा हुआ खूबसूरत शहर है। प्राचीन निर्माण में मदन मोहन और हनुमानतल बड़ा जैन मंदिर, प्राचीन दुर्गावती, संग्रहालय आदि पर्यटन प्रमुख रुप से हैं।

इस खूबसूरत शहर की जनसंख्या लगभग 1300000 मानी जाती है। और क्षेत्रफल की दृष्टि से जबलपुर 367 वर्ग किलोमीटर के क्षेत्र में फैला हुआ है। आइए दोस्तों कुछ जबलपुर के महत्वपूर्ण पर्यटन केंद्रों के बारे में जानते हैं।

भेड़ाघाट धुआंधार जलप्रपात( bhedaghat dhuandhar jalprapat)

धुआंधार जलप्रपात जबलपुर के प्रमुख पर्यटन केंद्रों में शामिल है। धुआंधार जलप्रपात पर्यटकों के लिए विशेष आकर्षण का केंद्र है। मध्य प्रदेश के जबलपुर जिले में स्थित है। इस जलप्रपात का झरने का पानी लगभग 32 मीटर की ऊंचाई से नीचे गिरता है और इसके आसपास उड़ने वाले पानी की वजह से धुंध फैल जाती है। इसलिए इसे धुआंधार जलप्रपात कहा जाता है।

यह धरना मुख्य रूप से जबलपुर से लगभग 32 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है और नर्मदा नदी पर बना हुआ है। यह झरना देखने में अत्यंत खूबसूरत लगता है। चारों ओर से पर्यटकों को खूबसूरत व्यू मिलता है। प्राकृतिक रूप से बना हुआ यह झरना देखने पर किसी आश्चर्य से कम नहीं लगता और इसकी खूबसूरती भी अपने आप में मन मोह लेती हैं।

सी वर्ल्ड वाटर पार्क( sea world water park) 

यह वाटर पार्क जबलपुर में आने वाले पर्यटकों के लिए एक बेस्ट वाटर पार्क है। यह वाटर पार्क जबलपुर में बच्चे और युवाओं के लिए विशेष आकर्षण का भी केंद्र है। इस वाटर पार्क में पानी के झूले और पानी के खेल जैसे अनेक प्रकार के खेल मौजूद हैं।

यह पार्क लगभग 20 एकड़ के क्षेत्र में फैला हुआ है। इस पार्क की खूबसूरती अत्यंत निराली है और इसमें साफ सफाई का विशेष ध्यान रखा जाता है जिसकी वजह से यह पर्यटकों को अपनी ओर आकर्षित करता है।

 वाटर पार्क की फीस( entry fees) 

सी वाटर पार्क की फीस प्रति व्यक्ति ₹300 है।

सी वाटर पार्क खुलने का समय( opening timing) 

यह पार्क! सुबह 11:00 बजे से लेकर शाम 5:00 बजे तक पर्यटकों के लिए खोला जाता है।

भेड़ाघाट स्थित मार्बल रॉक्स( bhedaghat marble rocks) 

जबलपुर के सबसे प्रमुख पर्यटन स्थलों में इस मार्बल रॉक का भी स्थान आता है। जबलपुर के मुख्य शहर से लगभग 25 किलोमीटर की दूरी पर स्थित। भेड़ाघाट की मार्बल रॉक्स! एक जन्नत से भी कम नहीं है। पानी के बीच स्थित संगमरमर की इन खूबसूरत चट्टानों को देखने के लिए देश-विदेश से पर्यटक यहां काफी अधिक संख्या में आते हैं। इसकी चट्टाने संगमरमर की होती हैं और विशेषकर सूर्य के प्रकाश और नर्मदा नदी के पानी के बीच एक शानदार व्यू बनता है। नर्मदा नदी की धारा के बीच में यह चट्टान मैग्नीशियम चुना पत्थर के हैं और सूर्य की अलग-अलग रोशनी में अलग-अलग रंगों का असर इन पर पड़ता है जिससे देखने में अत्यंत। रंगीन लगते हैं।

भेड़ाघाट नाव की सवारी( bhedaghat boat riding)

पर्यटकों को अगर भेड़ाघाट का खूबसूरत नजारा देखना है तो उन्हें यहां पर नाव की सवारी करना चाहिए नाव की सवारी करने से ही इनको भेड़ाघाट की सभी खूबसूरत जगह को पास से देखने का अवसर प्राप्त होगा। नर्मदा नदी के किनारे बने यह खूबसूरत रॉक नाव से देखने पर अत्यंत खूबसूरत प्रतीत होते हैं।

नाव की सवारी करने के लिए पंचवटी घाट से वोटिंग राइटिंग स्टार्ट होती है जो भेड़ाघाट तक लगभग 22 किलोमीटर के मार्ग तक चलती है। यहां पर वोटिंग सुबह 7:00 बजे से लेकर शाम 7:00 बजे तक चलती है| जहां पर पर्यटक इस जल मार्ग पर सवारी का लुफ्त उठा कर इस खूबसूरत जगह को करीब से देखने का अवसर प्राप्त करते हैं।

ट्रेजर आइलैंड मॉल( treazer island mall) 

ट्रेजर आइलैंड मॉल जबलपुर के सबसे प्रसिद्ध और बड़े बालों में से एक है। यहां पर खरीदारी करने के लिए लगभग 300 से अधिक दुकानें हैं। जबलपुर के भीम नगर में स्थित यह माल पर्यटकों के लिए भी आकर्षण का केंद्र है। यदि आप जब भी जबलपुर की यात्रा पर जाए तो थोड़ा समय निकालकर जरूर इस मॉल में घूमने जाएं।

भेड़ाघाट केबल कार राइड( bhedaghat cable car ride) 

भेड़ाघाट में स्थित केबल कार राइड यहां आने वाले पर्यटकों के बीच में खासी लोकप्रिय हैं। यह केबल कार राइड भेड़ाघाट में यहां पर एक तरफ से दूसरी तरफ ले जाने के लिए प्रयोग की जाती है। यह केवल कार एक बार में 4 व्यक्तियों को एक तरफ से दूसरी तरफ ले जाती है।

इस कार में बैठकर पर्यटक नीचे स्थित नर्मदा नदी के बहते हुए खूबसूरत पानी और यहां के रॉक शेल्टर्स को देखकर अत्यंत मंत्रमुग्ध हो जाते हैं। इस केबल कार राइड का इस्तेमाल करने के लिए प्रति व्यक्ति लगभग ₹100 का किराया निर्धारित किया गया है। पर्यटक यहां जब भी आते हैं तो इस केबल कार राइड का लुफ्त जरूर उठाते हैं। तो जब भी आप यहां आए तो बेड़ा घाट स्थित केबल कार राइड का आनंद जरूर उठाएं।

प्राकृतिक स्थल बैलेंस इन रॉक( natural palace balance in rock)

यह प्राकृतिक स्थल देखने में अद्भुत है जिसे बैलेंसिंग रॉक कहा जाता है। पर्यटक इस बैलेंस इन रॉक को देखने के लिए देश विदेश से जबलपुर आते हैं। स्थानीय लोगों का तो यहां तक मानना है कि कोई भी प्राकृतिक आपदा आने पर जैसे भूकंप वगैरह तो भी इस चट्टानों का कुछ भी संतुलन नहीं बिगड़ता है।

यह यह रॉक तो 6:30 रिक्टर पैमाने के भूकंप में भी अपना संतुलन बनाए रखती है। या पर्यटकों के बीच में कौतूहल का केंद्र बना रहता है, इसको देखकर लोग अचंभित हो जाते हैं।

ये भी पढ़े

पंचमढ़ी में घूमने लायक टॉप जगहें

इंदौर में घूमने लायक सबसे अच्छी जगहें

मदन महल किला( madan Mahal qila) 

जबलपुर के प्रमुख पर्यटन स्थलों में से एक मदन महल किला जबलपुर की एक चट्टानी पहाड़ी की सबसे ऊंची चोटी पर स्थित है। यह प्राचीन किला पर्यटकों के आकर्षण का प्रमुख केंद्र है। इसका एक प्रमुख कारण इस भव्य किला का चोटी के ऊपर स्थित होना है। इस किले के चारों ओर जबलपुर शहर का संपूर्ण दृश्य देखने को मिल जाएगा।

यहां से फोटो खींचने के लिए भी एक खूबसूरत वह मिलता है इस भव्य महल को। 1 गुण शासक राजा मदन शाह ने। लगभग सन 1916 ईस्वी के। दौरान बनाया था अत्यंत प्राचीन होने कारण यह कुछ जीर्ण अवस्था में है परंतु आज भी यह पर्यटकों के आकर्षण का केंद्र है।

 

धार्मिक स्थल चौंसठ योगिनी मंदिर( dharmik sthal chausath yogini mandir) 

जबलपुर में स्थित चौंसठ योगिनी मंदिर जबलपुर के प्रमुख ऐतिहासिक पर्यटन केंद्रों में मुख्य रूप से आता है। संगमरमर की प्रसिद्ध चट्टानों के पास में स्थित इस मंदिर में देवी दुर्गा की लगभग 64 अनुष्ठान को की प्रतिमा है। पुरातत्व विभाग द्वारा माना जाता है कि इस प्राचीन मंदिर का निर्माण सन् 1000 के आसपास हुआ होगा। यह कहा जाता है कि इसका निर्माण कलचुरी वंश ने कराया था।

मंदिर के। पास में ही रानी दुर्गावती की मंदिर की यात्रा संबंधित एक शिलालेख भी स्थित है। और यहां पर एक सुरंग भी है जो 64 योगिनी मंदिर को गोंद की महारानी दुर्गावती के महल से जोड़ती है। इस मंदिर की सबसे खास बात यह है कि यहां 64 देवियों की प्रतिमाओं से गिरा हुआ। मंदिर के बीचो बीच में एक शिवलिंग स्थापित है। तंत्र साधना के लिए यह मंदिर विश्व विख्यात है।

भगवान शिव और पार्वती की एक साथ मूर्ति पूरे भारत में सिर्फ यही पर मौजूद है। काफी ऊंचाई पर स्थित इस मंदिर को देखकर पर्यटक आश्चर्यचकित हो जाते हैं। उनके मन में कई ऐसे सवाल उत्पन्न हो जाते हैं। जैसे कि इतने भारी शिलालेखों को इतनी ऊंचाई पर लाया कैसे गया होगा। इन शिलालेखों को काट काटकर इन मंदिरों और इन विशाल मूर्ति की स्थापना कैसे की गई होगी यह मंदिर वास्तव में आश्चर्यजनक है इसकी भव्यता अपने आप में निराली है।

हालांकि यह भी कहा जाता है कि मुगलकालीन शासन के दौरान अधिकतर मूर्तियों को मुगलों ने खंडित करवा दिया था। परंतु आज भी खंडित मूर्तियां देखने में अत्यंत भव्य लगती है। तांत्रिक साधना का ज्ञान रखने वाले लोगों के बीच में यह कहा जाता है कि कि यह चौसठ योगिनी देविया अलौकिक शक्तियों से संपन्न होती हैं।

इन्हीं शक्तियों के कारण इंद्रजाल, जादू, वशीकरण, स्तंभन आदि कर्म किए जाते हैं। इन्हीं योगियों के द्वारा यह सब चीज क्रियाएं संपन्न हो पाती हैं। अगर आप जबलपुर जब भी आए तो चौसठ योगिनी मंदिर के दर्शन जरूर करें।

डुमना नेचर रिजर्व पार्क( dumna nature reserve park)

जबलपुर में स्थित डुमना नेचर रिजर्व पार्क एक बेहतरीन इको टूरिज्म साइड मानी जाता है। यह खूबसूरत प्रकार सभी प्रकार की वनस्पति और जीव जंतुओं और विशेषकर मछलियों के लिए भी एक शानदार परिवेश प्रस्तुत करता है। इसके अलावा इस पार्क में पर्यटन के लिहाज से बढ़ावा देने के लिए मछली पकड़ना, नौका विहार, टॉय ट्रेन आदि सुविधाएं दी गई हैं।

जबलपुर तिलवारा घाट( jabalpur tilwara ghat) 

य घाट जबलपुर के पर्यटन केंद्रों में प्रमुख रूप से माना जाता है क्योंकि यह घाट भेड़ाघाट धुआंधार जलप्रपात की अत्यंत निकट है। इस घाट की सबसे खास बात इस घाट के सामने बड़े-बड़े संगमरमर की चट्टानें हैं देखने में अत्यंत सुंदर लगती हैं। पर्यटन के लिहाज से भी क्षेत्र काफी समृद्ध माना जाता है। यह घाट नर्मदा नदी के तट पर स्थित है.

भंवरताल गार्डन( bhavartal garden)

 

जबलपुर के सबसे अच्छे पर्यटन केंद्र और पिकनिक स्पॉट में से एक भंवरताल गार्डन नेपियर टाउन नामक शहर के मध्य स्थित है। यह आकर्षक गार्डन चारों तरफ आकर्षक हरियाली को उड़े हुए हैं। यह आकर्षित भंवरताल गार्डन टॉय ट्रेन स्लाइड झूलो और चारों ओर बने हरे भरे पेड़ों से बने बाढ़ से बना एक सार्वजनिक पार्क है।

इस पार्क में सुबह शाम! मॉर्निंग और इवनिंग वॉक करने योग करने और फैमिली पिकनिक आदि करने के लिए लोग काफी अधिक संख्या में आते हैं। वर्तमान समय में प्रमुख पिकनिक स्पॉट्स में से इस पार्क का नाम भी लिया जाता है।

जबलपुर में घूमने जाने का सबसे अच्छा समय।( best time to travel in jabalpur) 

जबलपुर में घूमने जाने के लिए सबसे अच्छा समय सितंबर से लेकर फरवरी तक का माना जाता है। फिर भी धुआंदार जलप्रपात को देखने के लिए यहां पर लोग वर्षा ऋतु में भी आते हैं। सितंबर से लेकर फरवरी तक के दिनों में यहां का टेंपरेचर 28 डिग्री से लेकर 15 डिग्री तक होता है। जो पर्यटन के लिए सबसे उपयुक्त समय माना जाता है।

जबलपुर ट्रेन से कैसे पहुंचे?

ट्रेन मार्ग से जबलपुर पहुंचने के लिए। आपको जबलपुर रेलवे स्टेशन पर उतरना पड़ेगा जो कि मुंबई हावड़ा रूट पर स्थित है। यहां पर सभी प्रमुख 10 ट्रेनों का ठहराव है। ट्रेन से आने के लिए जबलपुर आसानसिलेक्शन हो सकता है।

बस से जबलपुर कैसे आए!

घूमने आने के लिए जबलपुर बस के द्वारा आप यहां पर भारत के प्रमुख शहरों जैसे नागपुर, औरंगाबाद, भोपाल पूरे और बांधवगढ़ से बहुत अच्छी खासी संख्या में बसें चलती हैं। जो आसानी से आपको जबलपुर पहुंचा सकते हैं। बस के द्वारा यात्रा करके भी आसानी से आप जबलपुर पहुंच सकते हैं।

हवाई जहाज के द्वारा जबलपुर कैसे आए?

हवाई जहाज के द्वारा जबलपुर आने के लिए यहां का निकटतम हवाई अड्डा डुमना हवाई अड्डा है जो जबलपुर में ही स्थित है जो मुख्य रूप से जबलपुर से 29 किलोमीटर की दूरी पर है। यहां हवाई जहाज से उतरकर आप प्राइवेट टैक्सी या ऑटो लेकर जबलपुर के किसी भी स्थान पर जाकर घूमने का आनंद ले सकते हैं।

2 thoughts on “जबलपुर में घूमने लायक प्रमुख जगहें”

Leave a comment

error

Enjoy this blog? Please spread the word :)