लेह लद्दाख की खूबसूरत घूमने लायक जगहें

 दोस्तों लेह लद्दाख का नाम तो आपने सुना ही होगा भारत का एक खूबसूरत केंद्र शासित प्रदेश जिसकी खूबसूरती की चर्चा देश में नहीं विदेशों में भी होती है |

यहां की बर्फीली चोटियां बुध से प्रेरित मठ यहां का खास रहन-सहन पर्यटकों को अपनी तरफ आकर्षित करता है |समर वेकेशन समय लेह लद्दाख जाने का सबसे अच्छा समय होता है |

यह गर्मियों में सबसे अच्छा पर्यटन केंद्र है यहां का शांत वातावरण किसी का भी मन मोह लेता है |इसके साथ-साथ यहां के लोगों का विशेष रहन-सहन ट्रैकिंग और स्कीम के लिए बियर क्षेत्र अत्यंत प्रचलित है 

इस के साथ-साथ यहां की बहुत गुफाएं और उनके अंदर की नक्काशी देखकर पर्यटक आश्चर्यचकित रह जाते हैं तो चलिए दोस्तों शुरू करते हैं लेह लद्दाख के कुछ प्रमुख पर्यटन केंद्रों के बारे में

लद्दाख का पर्यटन केंद्र पैंगोंग झील

 pengong lake informative image

यह खूबसूरत झील समुद्र तल से लगभग 46000 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है इतनी ऊंचाई पर होने की वजह से यहां का औसत तापमान -5 से 10 डिग्री के बीच में होता है |

यहां का ठंडा वातावरण पर्यटकों को खास लुभाता है यह झील 12 किलोमीटर से भी अधिक लंबी है जो भारत सीमा से लेकर तिब्बत तक फैली हुई है |

हिमालय की खूबसूरत वादियों में स्थित झील पर्यटकों को अपनी तरफ आकर्षित करती है सर्दी के दिनों में यह झील पूरी तरह से जम जाती है| 

इस झील का क्रिस्टल क्लियर पानी, स्वच्छ वातावरण, हिमालय की खूबसूरत चोटिया अत्यंत मनमोहक लगती हैं यह झील लंबे समय से लद्दाख के प्रमुख पर्यटन केंद्रों में से एक रही है|

लेह से  झील की दूरी

प्रमुख शहर लेह से इस झील की दूरी 222 किलोमीटर की है लेह शहर से इस झील के लिए आपको नियमित बस सेवा उपलब्ध है|

लद्दाख का प्रमुख पर्यटन केंद्र लेह महल

leh mahal information image

यह महल अपनी खूबसूरती और ऐतिहासिक धरोहर होने की वजह से लद्दाख का प्रमुख पर्यटन केंद्र है|

लेह महल अपने समय का सबसे ऊंचे महलों में से एक है 9 मंजिला महल राजा ने अपने पूरे परिवार के लिए बनाया था| 

यह भव्य महल लद्दाख का सबसे खूबसूरत महलो में से एक है लद्दाख के साथ-साथ भारत के 20 ऐतिहासिक और भव्य महलों में से एक माना जाता है |यह महल लेह शहर के लिए एक मनोरम दृश्य प्रस्तुत करता है 17 वी शताब्दी के राजा सिंगले नामग्याल का यह महल अपनी खूबसूरती के लिए पूरे लद्दाख में विख्यात है|

लेह से लेह महल की दूरी

शहर लेह से लेह महल की दूरी मात्र 3 किलोमीटर की है|

प्रकृति का चमत्कार मैग्नेटिक हिल

megnetic hill informative image for leh laddakh me ghumne layak jagahen

मैग्नेटिक हिल को ग्रेविटी हिल भी कहा जाता है गुरुत्वाकर्षण बल के कारण यहां पर खड़े वाहन भी अपने आप पहाड़ की तरफ चलने लगते हैं |

मैग्नेटिक हिल लेह शहर से लगभग 32 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है और समुद्र तल से लगभग 42500 फीट की ऊंचाई पर है| 

लद्दाख के तिब्बत सीमा की तरफ जाने वाले यात्रियों के लिए यह एक आवश्यक पड़ाव है क्योंकि यहां पर वास्तविकता या भ्रम की स्थिति दोनों बनी रहती है यही ग्रेविटी रहस्य दुनिया भर के पर्यटकों को अपनी तरफ आकर्षित करता है|

लेह से मैग्नेटिक हिल की दूरी

लद्दाख के शहर ले से मैग्नेटिक हिल की दूरी 28 किलोमीटर की है शहर से आपको नियमित बस सेवाएं और टैक्सी मिल जाएंगे|

लद्दाख का ऐतिहासिक जगह फुग़ताल मठ

यह मठ लद्दाख के प्रमुख पर्यटन केंद्र के साथ-साथ यहां का ऐतिहासिक मठ भी है यह मठ अति प्राचीन होने के साथ-साथ बौद्धों के निवास का भी स्थान रहा है|  

यह मठ ट्रैकिंग प्रेमियों के लिए भी एक आदर्श स्थान है| फुक अर्थ होता है “गुफा” और ताल का अर्थ होता है “आराम” बौद्ध के आराम करने की इस जगह को फुग़ताल कहा गया | यहां के मंदिरों में प्रतिदिन लोगों के स्वस्थ जीवन और उनके अच्छे आचरण की प्रार्थना की जाती है| यहां के होने वाले महोत्सव आदि भी पर्यटको को अपनी तरफ आकर्षित करते हैं|

दोस्तों जब भी आप लद्दाख में यात्रा करने का प्लान बनाएं तो फुग़ताल जाना ना भूलें|

लेह से फुग़ताल मठ की दूरी

लेह से फुग़ताल मठ की दूरी 410 किलोमीटर की है लेह शहर से आपको यहां जाने के लिए बस मिल जाएंगे|

लद्दाख का प्रमुख पर्यटन केंद्र शांति स्तूप

shanti stupa image for informative

दोस्तों लद्दाख के प्रमुख पर्यटन केंद्रों में इस शांति स्तूप का भी नाम आता है मुख्य शहर से लगभग 500 सीढ़ियों पर चढ़कर आप यहां पर पहुंच सकते हैं |

समुद्र तल से शांति स्तूप 4250 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है| इस स्तूप का निर्माण जापानी बौद्ध भिक्षु गोमिया नाकामुरा के द्वारा कराया गया और इसकी स्थापना 14वें दलाई लामा ने की थी| 

इस स्तूप के आसपास का परिदृश्य अत्यंत सुंदर है यहां पर दूर-दराज के क्षेत्रों से पर्यटक इस स्तूप को देखने के लिए आते हैं|

लेह से शांति स्तूप की दूरी

लेह बस अड्डे से शांति स्तूप की दूरी मात्र 6 किलोमीटर की है आप यहां प्राइवेट टैक्सी के माध्यम से आसानी से पहुंच सकते हैं|

लेह लद्दाख में घूमने की जगह लेह मार्केट

दोस्तों अगर आप खरीदारी करने के शौकीन है तो लेह शहर के बीचो बीच में स्थित इस खूबसूरत मार्केट में आपको जरूर जाना चाहिए यहां का सुप्रसिद्ध पशमीना साल भी आपको मिल जाएगा |

इसके साथ-साथ सुंदर नक्काशी वाली वस्तुएं यहां पर मौजूद है |पर्यटकों के लिए यहां के लजीज व्यंजनों की होटल आदि भी बने हुए हैं जहां पर आप आकर स्थानीय लजीज व्यंजनों का स्वाद ले सकते हैं |

लद्दाख में होने वाला साहसिक खेल रिवर राफ्टिंग

river rafting in laddakh

रिवर राफ्टिंग जैसे रोमांचक खेल का अनुभव लेने के लिए लद्दाख की जास्कर नदी भारत की सर्वश्रेष्ठ रिवर राफ्टिंग के लिए नदियों में से एक है |

दोस्तों जब भी आप लद्दाख की यात्रा करने के लिए जाएं रोमांचक यात्रा के शौकीन लोग एक बार रिवर राफ्टिंग का लुफ्त जरूर उठाएं यहां का आदर्श परिवेश पर्यटकों को अपनी तरफ आकर्षित करता है|

 इसके साथ-साथ रिवर राफ्टिंग करते समय अपने ग्वार द्वारा बताए गए निर्देशों को ध्यान पूर्वक सुने और उनका पालन करें लद्दाख में अप्रैल से लेकर सितंबर तक के महीने में रिवर राफ्टिंग का आनंद लेने के लिए दुनिया भर से पर्यटक पहुंचते हैं|

लद्दाख का मशहूर पर्यटन केंद्र स्टॉक पैलेस

लद्दाख के सबसे खूबसूरत पैलेस में से एक स्टॉक पैलेस लद्दाख के पर्यटन केंद्रों में प्रमुख रूप से है इस भव्य पैलेस का निर्माण सन 1925 ईस्वी में हुआ था |इस पैलेस में शाही पोशाक मुकुट और शाही खानदान से जुड़ी हुई चीजों को संग्रहित किया गया है |

इसके साथ इस पैलेस की वास्तु कला की खूबसूरत कलाकृतियों के साथ-साथ यहां के खूबसूरत बागानों को देखकर पर्यटक आश्चर्यचकित रह जाते हैं 

यहां पर आप प्राइवेट कैप यह साझा टैक्सियों के माध्यम से आसानी से पहुंच सकते हैं|

लेह से स्टॉक पैलेस की दूरी

लेह बस अड्डे से स्टॉक पैलेस की दूरी 15 किलोमीटर की है स्टॉक पैलेस पहुंचने के लिए आपको यहां से प्राइवेट टैक्सी पूरे दिन मिलती हैं|

लेह लद्दाख का प्रसिद्ध पर्यटन स्थल हेमिस मठ

hemish math information image

लेह लद्दाख के प्रसिद्ध पर्यटन केंद्रों में है हेमिस मठ का नाम भी प्रमुखता से लिया जाता है लेह शहर से  42 किलोमीटर की दूरी पर स्थित यह मठ अत्यंत प्राचीन होने के साथ-साथ लेह लद्दाख का सबसे बड़ा  मठ है|

हेमिस मठ को ले लद्दाख का सबसे धनी मठ भी माना जाता है|

 इस स्थान की सबसे खास बात यह है कि यह प्रति 12 वर्षों के अंतराल पर खुलता है |

भगवान पदमनागम की पूजा अर्चना की जाती है और महोत्सव का आयोजन किया जाता है इस महोत्सव में भाग लेने के लिए स्थानीय लोगों के साथ-साथ विदेशी पर्यटक भी यहां पर एकत्रित होते हैं|

लेह से हेमिस मठ की दूरी

प्रमुख शहर ले से हेमिस मठ की दूरी 44 किलोमीटर की है ले बस अड्डे से आपको यहां की नियमित बस सेवा है और प्राइवेट टैक्सी मिल जाएंगे|

लेह लद्दाख में घूमने लायक का सबसे अच्छा मौसम

laddakh weather information image

अगर आपने लेह  लद्दाख घूमने का मन बनाया है तो यहां पर आने का सबसे अच्छा समय अप्रैल से माना गया है आप यहां अप्रैल से अक्टूबर के मध्य कभी भी आकर यहां की खूबसूरती को देख सकते हैं |

कुछ समय तो अक्टूबर के बाद भी यहां पर्यटक यहां की बर्फबारी देखने के लिए आते हैं|

लेह लद्दाख का मौसम

लेह लद्दाख का मौसम भारत के अनेक क्षेत्रों की अपेक्षा अधिक ठंडा होता है आप यहां जब भी जाए तो ठंड में पहनने वाले कपड़े इत्यादि जरूर ले जाए जिससे आपको असुविधा ना हो|

 गर्मियों में यहां का तापमान 10 से 25 डिग्री सेंटीग्रेड के बीच में होता है जबकि सर्दियों में माइनस 10 डिग्री से लेकर 1 डिग्री तक का टेंपरेचर रहता है|

लेह लद्दाख कैसे पहुंचे?

दोस्तों अगर आप ने लेह लद्दाख की यात्रा करने का मन बनाया है तो हम आपको जानकारी दे दे कि आप हवाई मार्ग और सड़क मार्ग के द्वारा लेह लद्दाख आसानी से पहुंच सकते हैं|

सड़क मार्ग से लेह लद्दाख कैसे पहुंचे?

 दोस्तों अगर आप सड़क मार्ग से लेह लद्दाख जाना चाहते हैं तो यह दो राजमार्गों मनाली राजमार्ग और श्रीनगर राजमार्ग से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है इन दोनों राजमार्गों के माध्यम से आप आसानी से लेह लद्दाख पहुंच सकते हैं|

हवाई मार्ग से लेह लद्दाख कैसे पहुंचे?

हवाई मार्ग से लेह लद्दाख पहुंचने के लिए लेह लद्दाख नई दिल्ली जम्मू और श्रीनगर हवाई अड्डे से अच्छी प्रकार जुड़ा हुआ है नई दिल्ली और श्रीनगर से नियमित उड़ानें चलती हैं|

तो दोस्तों ये रहे आपके घूमने लायक लद्दाख के प्रमुख पर्यटन केंद्र आपको हमारा ये लेख कैसा लगा अपनी राय जरूर दे..धन्यवाद

हमारे अन्य लेख

भारत के प्रमुख घूमने लायक हिल स्टेशन

जम्मू कश्मीर में घूमने लायक टॉप जगहें

शिमला में घूमने लायक जगहें

कुल्लू मनाली की खूबसूरत जगहें

Leave a comment

error

Enjoy this blog? Please spread the word :)