भारत में हिल स्टेशन घूमने के लिहाज से अधिक संभावना से जुड़ा हुआ है यहां का पर्यटन मंत्रालय द्वारा अतुल्य भारत योजना चालू की गई है | इसके माध्यम से भारत के साथ-साथ विदेशों के भी पर्यटक यहां पर आकर प्राकृतिक नजारों को देखते हैं |चारों और बर्फ से घिरी हुई चोटिया ऊंचे ऊंचे पहाड़, प्राकृतिक हरियाली, सुंदर बागान, प्राकृतिक झीलें, नदिया आदि भारत में अत्यंत सुंदर नजारा प्रस्तुत करती हैं |परंतु आज हम भारत के प्रमुख हिल स्टेशंस की बात करेंगे जो पर्यटन के लिहाज से सबसे अच्छे और सबसे ज्यादा पर्यटकों को अपनी ओर आकर्षित करते हैं तो चलिए शुरू करते हैं

Contents hide

धरती का स्वर्ग गुलमर्ग (जम्मू कश्मीर)

gulmarg image in jammu kashmir

जम्मू कश्मीर के बारामुला जिले में स्थित गुलमर्ग धरती का स्वर्ग कहा जाता है | गुलमर्ग भारत का सबसे खूबसूरत स्थान माना जाता है | अगर आप पर्यटन प्रेमी है , तो आपकी जरूर ख्वाहिश होगी कि एक बार गुलमर्ग आकर यहां की खूबसूरती का दीदार करें |

गुलमर्ग समुद्र तल से लगभग 2735 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है | यहां पर बर्फ से ढके पहाड़ हरे-भरे घास के ढलान वाले मैदान गहरी खाईया पहाड़िया घाटियां सदाबहार वन पर्यटकों को अपनी ओर आकर्षित करते हैं |

इसके अलावा भारत का प्रमुख गोल्फ कोर्स भी गुलमर्ग में ही स्थित है यह हनीमून कपल्स के लिए एक आदर्श स्थान माना जाता है | यह स्थल एकांत और सुंदरता की तलाश करने वाले लोगों के लिए एक आदर्श पिकनिक स्पॉट भी है|

यहां पर मनाली और शिमला जैसी भीड़-भाड़ नहीं होती हैं | इसके अलावा एडवेंचर के शौकीन यात्री भी यहां जरूर आते हैं | यहां पर दुनिया की सबसे ऊंची दूसरी केबल कार चलती है वह आईआईएचएम द्वारा ट्रैकिंग, स्कीइंग आदि की सुविधा पर्यटकों को दी जाती है | यहां पर बहुत अधिक संख्या में बॉलीवुड फिल्मों की शूटिंग भी की जा चुकी है |

गुलमर्ग की बर्फबारी

अक्टूबर के महीने से लेकर फरवरी के महीने तक गुलमर्ग में भारी बर्फबारी होती हैं | जो बर्फ में होने वाले खेलों आदि के लिए आदर्श माहौल तैयार करती है |

यहां पर काफी अधिक संख्या में बर्फबारी से जुड़े रोमांचक खेलों का आयोजन होता है | जनवरी के पहले सप्ताह से ही पर्यटकों के लिए यहां पर बर्फ में होने वाले खेलों का आयोजन शुरू हो जाते हैं| 

ओप्पो झील

यह झील गुलमर्ग से लगभग 12 किलोमीटर की दूरी पर नून और खुलवा की चोटियों पर स्थित है | यह एक प्रसिद्ध पर्यटन स्थल है |

यहां पर प्राकृतिक दृश्यों के साथ-साथ सर्दियों के दौरान बर्फ से ढके रहने वाली चोटिया अत्यंत मनमोहन लगती है | यह स्थान फोटोग्राफी और एकांत की तलाश करने वाले लोगों के लिए एक आदर्श स्थान है |

गुलमर्ग पर्यटन स्थल खिलनमर्ग

यह स्थान पैदल यात्रा के लिए जाना जाता है क्योंकि यहां पर बर्फबारी अधिक होती है | इसलिए वाहन का पहुंचना मुश्किल होता है | यह स्थान पर्यटन के लिहाज से हिमालय की सबसे ऊंची चोटियों पर स्थित है |

दुनिया भर के पर्यटन प्रेमी यहां पर यहां की प्राकृतिक सुंदरता के साथ-साथ बर्फ में होने वाले खेलों के लिए भी यहां आते हैं |

गुलमर्ग में एडवेंचर के लिए स्कीइंग

गूलर मार्केट टूरिस्ट प्लेस पर आप यहां की बर्फीली ऊंचाइयों से स्कीम जैसे आकर्षक खेल भी खेल सकते हैं | जो कि सीधा ढलान पर स्थित आपको मंदिरों तक ले जा सकती है यहां का नजारा मंत्रमुग्ध कर देता है इसके साथ-साथ आप गूलर मर के मशहूर गोंडोला केबल कार का भी उपयोग कर सकते हैं

गुलमर्ग में ट्रैकिंग के लिए मशहूर जगह तंगमर्ग

नंबर गुलमर्ग का प्रमुख पर्यटन स्थल है यह स्थान गुलमर्ग से लगभग 13 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है यहां पर 5 किलोमीटर लंबी ट्रैकिंग मार्ग है ट्रैकिंग को पसंद करने वाले पर्यटक यहां पर काफी अधिक संख्या में आते हैं इसके साथ-साथ सर्दियों के मौसम में यहां पर गर्म कपड़े कंबल जूते आदि स्थानीय प्रशासन द्वारा किराए पर दिए जाते हैं| 

गुलमर्ग में होने वाले स्नो फेस्टिवल

गुलमर्ग को पर्यटन के लिहाज से बढ़ावा देने के लिए प्रशासन के द्वारा सन 2003 में शीतकालीन खेलों और पर्यटन को प्रोत्साहित करने के उद्देश्य से शुरू किए गए थे इस उत्सव का आयोजन हर साल गुलमर्ग खेल पर्यटन द्वारा किया जाता है

जिसमें भाग लेने के लिए देश-विदेश से स्नो एडवेंचर खेलों के शौकीन लोग यहां पर आते हैं इसके अलावा यहां पर पेस्ट स्कीइंग स्नोबोर्डिंग स्नो स्लेजिंग आइस स्केटिंग जैसे स्पोटिंग गतिविधियां की जाती है | 

इन पर्यटन क्षेत्रों के अलावा यहां पर स्ट्रॉबेरी घाटी, हरवत पिक, बायोस्फीयर रिजर्व पार्क, गोल्फ कोर्स, फिरोजपुर नाला, चिल्ड्रन पार्क, गोंडोला लिफ्ट, अल्फा थरथील,  फिरोज पुरा गांव आदि अनेक लुभावनी जगह है जहां पर पर्यटक आकर प्राकृतिक हरियाली और यहां का खूबसूरत वातावरण का आनंद ले सकते हैं | 

gulmarg image in jammu kashmir

गुलमर्ग जाने का सबसे अच्छा समय

गुलमर्ग जाने का सबसे अच्छा समय मार्च से जून का माना जाता है यह समय सबसे अधिक संख्या में पर्यटक यहां पर आते हैं इसके अलावा गुलमर्ग हिल स्टेशन को साहसिक गतिविधियों के लिए भी जाना जाता है | 

गुलमर्ग कैसे पहुंचे ?

फ्लाइट से गुलमर्ग पहुंचने के लिए यहां का निकटतम हवाई अड्डा श्रीनगर है जो कि गुलमर्ग के लगभग 62 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है श्रीनगर का एयरपोर्ट देश के सभी प्रमुख हवाई अड्डों से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है एयरपोर्ट से गुलमर्ग तक जाने के लिए आपको स्थानी टैक्सी कैब आसानी से उपलब्ध हो जाती है| 

रेल परिवहन से गुलमर्ग पहुंचने के लिए यहां का निकटतम रेलवे स्टेशन जम्मू रेलवे स्टेशन है जो कि गुलमल से लगभग 294 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है जम्मू से श्रीनगर के लिए बस का चुनाव कर सकते हैं या फिर सीधे गुलमर्ग जाने के लिए आप प्राइवेट कब ले सकते हैं| 

सड़क परिवहन से गुलमर्ग पहुंचने के लिए सड़क माध्यम से या दिल्ली से सीधी बस सेवा के द्वारा जुड़ा हुआ है जहां से नियमित बसें गुलमर्ग के लिए चलती हैं गुलमर्ग से दिल्ली की कुल दूरी 865 किलोमीटर की है| 

भारत का प्रमुख हिल स्टेशन शिमला

भारत के प्रमुख हिल स्टेशनो में से एक शिमला वर्तमान समय में पर्यटकों की पहली पसंद के रूप में उभर रहा है शिमला जोकि हिमाचल प्रदेश की राजधानी भी है यह हनीमून कपल्स के लिए एक आदर्श स्थान के रूप में जाना जाता है |

यहां का मनमोहक वातावरण हर किसी को यहां आने को मजबूर कर देगा आपको एक बार शिमला जरूर आना चाहिए कालका से शिमला के बीच में चलने वाली ट्रेन भारत ही नहीं संपूर्ण दुनिया में सबसे खूबसूरत रेलमार्ग है | 

इसके साथ-साथ यहां घूमने वाली कुछ प्रमुख जगहों में से कुफरी, माल रोड, जाखू हिल ,सोलन, कालका शिमला ट्रेन मार्ग, मनाली, कुल्लू ,समर हिल, जलील नालदहरा ,तारा घाटी आदि प्रमुख जगह है यहां पर काफी अधिक संख्या में पर्यटक आते हैं | 

शिमला घूमने का सबसे अच्छा समय

यूं तो वर्ष भर शिमला का मौसम बेहद ही सुहावना होता है शिमला आने वाले पर्यटक किसी भी समय शिमला की यात्रा कर सकते हैं परंतु गर्मियों में मार्च से जून तक का समय सबसे श्रेष्ठ होता है| 

जब भारत के ज्यादातर हिस्सों में अधिक गर्मी होती है तो शिमला का तापमान मात्र 20 डिग्री सेल्सियस के आसपास होता है सर्दियों में यहां पर बर्फबारी के कारण भी यह स्थान अत्यधिक लुभावना हो जाता है और पर्यटकों को यह आकर्षित करता है| 

शिमला हिल स्टेशन इन हिमांचल प्रदेश

शिमला कैसे पहुंचे ?

सड़क मार्ग से शिमला पहुंचने के लिए यह सभी प्रमुख शहरों से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है यहां पर उत्तर भारत के प्रमुख शहरों से ट्रांसपोर्ट कंपनियों की प्राइवेट बसें नियमित तौर पर चलती रहती है| 

ट्रेन परिवहन से शिमला तक पहुंचने के लिए सबसे नजदीकी रेलवे स्टेशन शिमला है परंतु यह अत्यधिक छोटा है यहां पर अधिक मात्रा में ट्रेन नहीं चलती हैं यहां पहुंचने के लिए निकटतम रेलवे स्टेशन कालका है जो प्रमुख शहरों से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है |कालका से शिमला के बीच में टॉय ट्रेन चलती है जिसकी दूरी 96 किलोमीटर की है इस ट्रेन को 7 से 8 घंटे का समय 96 किलोमीटर की दूरी तय करने में लगता है परंतु यह यात्रा अत्यधिक लोकप्रिय और सुंदर दृश्यों के लिए प्रसिद्ध है| 

वायु मार्ग द्वारा शिमला पहुंचने के लिए आप का निकटतम हवाई अड्डा जुब्बारहट्टी है जो शिमला से लगभग 25 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है जुब्बारहट्टी के लिए दिल्ली से नियमित पुराने चलती हैं| 

ये भी पढ़े 

शिमला में घूमने लायक प्रमुख जगहें 

श्रीनगर हिल स्टेशन ( जम्मू और कश्मीर )

श्रीनगर हिल स्टेशन इन इंडिया

भारत के प्रमुख पर्यटन स्थलों में से एक श्रीनगर भारत ही नहीं दुनिया भर का सबसे ज्यादा चाहा जाने वाला पर्यटन स्थल है|  यह स्थान प्राकृतिक झीलों ,उद्यानों, और घाटियों के लिए विश्व प्रसिद्ध है इस जगह को धरती का स्वर्ग भी कहा जाता है| 

श्रीनगर में घूमने वाली जगहें 

यहां पर घूमने जाने वाली जगहों में मुगल गार्डन, डल झील, निशांत बाग, शालीमार बाग ,टयूलिप गार्डन, चार चिनार, वूलर झील, बारामुला की खूबसूरत पहाड़ियां, जामिया मस्जिद, छल्ली पॉइंट, परी महल ,नागिन जी दाचीगाम राष्ट्रीय उद्यान ,अनंतनाग, सिंथन टॉप, खीर भवानी मंदिर, काठी दरवाजा और खरीदारी करने के लिए फ्लोटिंग वेजिटेबल मार्केट आदि प्रसिद्ध है| 

श्रीनगर जाने का सबसे अच्छा समय

श्रीनगर में मौसम साल भर सुखद रहता है आप अगर श्रीनगर घूमने जाना चाहते हैं तो आप किसी भी समय यहां घूम सकते हैं परंतु यहां पर अगर आप ज्यादा आनंद लेना चाहते हैं तो अप्रैल से अक्टूबर तक का महीना सर्वश्रेष्ठ होता है सर्दी ऋतु में जनवरी-फरवरी में आप यहां की बर्फबारी का आनंद ले सकते हैं|

श्रीनगर कैसे पहुंचे?

हवाई मार्ग से श्रीनगर पहुंचने के लिए यहां का निकटतम हवाई अड्डा से नगर है जो कि भारत के प्रमुख शहरों से और अंतरराष्ट्रीय प्रमुख हवाई अड्डे से भी जुड़ा हुआ है| 

सड़क परिवहन के माध्यम से श्रीनगर पहुंचने के लिए यह चंडीगढ़ गुलमर्ग जम्मू सोनमर्ग दिल्ली पहलगाम की सड़कों से अच्छी प्रकार जुड़ा हुआ है यहां आप आसानी से प्राइवेट बसों के माध्यम से पहुंच सकते हैं| 

रेल परिवहन से श्रीनगर पहुंचने के लिए यहां करते निकटतम रेलवे स्टेशन जम्मू तवी है यह एक प्रमुख रेलवे स्टेशन है| 

श्रीनगर में खरीदारी क्या करें?

अगर आप शॉपिंग करने के शौकीन है तो यहां पर हाथ कल से बनाए हुए बेहद ही खूबसूरत कालीन, विश्व प्रसिद्ध पश्मीना शाल,सूखे मेवे, मसाले इत्यादि यहां पर खरीद सकते हैं| 

प्रसिद्ध पर्यटन केंद्र लेह लद्दाख

informative image

समर वेकेशन के लिए आदर्श स्थान लद्दाख माना जाता है यहां की खूबसूरत बर्फीली चोटियां पाठकों को अपनी ओर आकर्षित करती हैं|  चारों तरफ रुई नुमा बर्फ से ढकी हुई ऊंची ऊंची पर्वत श्रृंखलाएं पर्यटकों को अपनी ओर खींचने के लिए पर्याप्त है | इसके अलावा लेह लद्दाख में ट्रेकिंग स्कीम आदि अनेक स्नो खेल आयोजित किए जाते हैं| 

लेह लद्दाख में घूमने लायक जगहें 

लेह लद्दाख में घूमने वाले प्रमुख पर्यटन केंद्रों में लेह महल जिसमें भगवान बुद्ध के जीवन से जुड़े हुए चित्र को देखा जा सकता है मस्जिद गोश्त पाते,स्टॉक पैलेस ,म्यूजियम, बौद्ध मठ, शंकर गोम्पा मठ, प्राचीन काली मंदिर, कारगिल, यहां के प्रमुख उत्सव आदि प्रमुख पर्यटन केंद्र हैं इन सब के साथ-साथ यहां का शानदार वातावरण भी पर्यटकों को अपनी ओर आकर्षित करता है यह भारत के प्रमुख और खूबसूरत हिल स्टेशनों में से एक है|

लेह लद्दाख इमेज इन लद्दाख

लेह लद्दाख घूमने जाने का सबसे अच्छा समय

लेह लद्दाख का मौसम पर्यटन के लिए आज से तो वर्ष भर आदर्श होता है परंतु आप बर्फबारी में होने वाले खेल आदि के शौकीन हैं तो आपको यहां अक्टूबर से नवंबर तक का समय सर्वश्रेष्ठ होगा नवंबर में ही यहां पर स्नो फेस्टिवल आयोजित किए जाते हैं| 

लेह लद्दाख कैसे पहुंचे?

ट्रेन परिवहन द्वारा लद्दाख पहुंचने के लिए यहां का निकटतम रेलवे स्टेशन जम्मू तवी है जो यहां से 680 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है| 

सड़क परिवहन से लद्दाख पहुंचने के लिए श्रीनगर से नियमित बस सेवाएं चलती हैं जबकि दोनों शहरों की दूरी 438 किलोमीटर की होती है यह यात्रा 2 दिनों में पूर्ण होती है| 

वायु मार्ग द्वारा ले पहुंचने के लिए यहां का निकटतम हवाई अड्डा लद्दाख है जो कि सभी महत्वपूर्ण शहरों से जुड़ा हुआ है| 

ये भी जाने

लेह लद्दाख की घूमने लायक जगहें

प्रमुख हिल स्टेशन नैनीताल (उत्तराखंड)

nainital informative image

यह हिल स्टेशन हनीमून कपल्स के लिए सबसे आदर्श हिल स्टेशन माना जाता है | कुमाऊं की पहाड़ियों के बीच में स्थित नैनीताल को झीलों का आशीर्वाद भी प्राप्त है |

नैनीताल के विषय में कौन नहीं जानता है, यहां की खूबसूरत चोटिया, प्राकृतिक झीलें, झीलों में चलने वाली रंग बिरंगी नौकाएं और यहां का खूबसूरत प्राकृतिक वातावरण पर्यटकों को अपनी ओर आकर्षित करता है|

सर्दियों में होने वाली बर्फबारी भी पर्यटकों को आकर्षण प्रदान करती हैं यहां पर सभी हिल स्टेशनों की तुलना में अधिक संख्या में पर्यटक आते हैं|

नैनीताल फोटो

नैनीताल में घूमने जाने वाली कुछ प्रमुख जगहें

यहां पर घूमने वाली कुछ प्रमुख जगहों में इको केव नैनी झील स्नो व्यू प्वाइंट टिफिन टॉप नैना पीक दी माल रोड  एडवेंचर स्पोर्ट्स नैना देवी मंदिर सनसेट का खूबसूरत नजारा 9 कुचिया ताल आदि कुछ प्रमुख जगह हैं| 

नैनीताल में घूमने जाने का सबसे अच्छा समय

नैनीताल घूमने जाने वाले पर्यटन प्रेमियों के लिए यहां का मौसम वर्षभर आदर्श होता है समर वेकेशन में यहां पर पर्यटकों की भीड़ काफी अधिक संख्या में हो जाती है जबकि विंटर वेकेशंस में बर्फीली जगह का आनंद लेने वाले लोगों की संख्या यहां पर बढ़ जाती है| 

नैनीताल कैसे पहुंचे?

हवाई मार्ग से नैनीताल पहुंचने के लिए यहां का निकटतम हवाई अड्डा पंतनगर है जो कि यहां से लगभग 68 किलोमीटर की दूरी पर है हवाई अड्डे के बाहर से आप प्राइवेट कैरियर टैक्सी के माध्यम से नैनीताल पहुंच सकते हैं| 

सड़क मार्ग से नैनीताल पहुंचने के लिए यहां की सड़कें भारत की प्रमुख शहरों से अच्छी प्रकार जुड़ी हुई है आप प्राइवेट कार्य बसों के माध्यम से यहां पर आसानी से पहुंच सकते हैं| 

ट्रेन यातायात से नैनीताल पहुंचने के लिए यहां का निकटतम रेलवे स्टेशन काठगोदाम है जो कि नैनीताल के शहर से लगभग 38 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है यहां से नियमित बस सेवा है आपको नैनीताल पहुंचा देती हैं यहां पर घूमने के लिए बहुत आदर्श स्थान है|

ये भी पढ़े 

नैनीताल में घूमने लायक प्रमुख जगहें 

 दार्जिलिंग पश्चिम बंगाल

दार्जिलिंग हिल स्टेशन

भारत का यह प्रसिद्ध हिल स्टेशन पर्वतों की ऊंची-ऊंची बर्फीली चोटियों और चाय के खूबसूरत बागानों और चारों ओर फैली हुई मन को मोह लेने वाली हरियाली के लिए प्रसिद्ध है |

दार्जिलिंग की एक छोटी सी रेल सेवा जो पर्वतों के बीच से होकर गुजरती है जो यहां का प्रमुख आकर्षण है यहां पर आप चारो तरफ बर्फ से ढकी हुई चोटिया देख सकते हैं |

दार्जिलिंग के पर्यावरण के अनुकूल होने वाले मौसम की वजह से यहां पर जंगल हरे भरे हैं जिससे पर्यटन को नया आयाम मिलता है और इसके फलस्वरूप आपको यहां पर बड़ी संख्या में पर्यटन प्रेमी और फोटोग्राफर आदि दिख जाएंगे| 

दार्जिलिंग पश्चिम बंगाल में घूमने लायक जगहें 

दार्जिलिंग में पर्यटन केंद्रों की काफी भरमार है परंतु उन पर्यटन केंद्रों में टी एस्टेट, दार्जिलिंग हिमालयन रेलवे, बतासिया लूप, युद्ध स्मारक, लॉयड बोटैनिकल गार्डन, भूटिया बस्ती, गोम्पा म्यूजियम, केबल कार आदि प्रमुख हैं

दार्जिलिंग घूमने जाने के लिए सबसे अच्छा समय

दार्जिलिंग में घूमने जाने के लिए यूं तो वर्ष भर आदर्श मौसम होता है परंतु भारत के अन्य जिन राज्यों में बेहद गर्मी पड़ती है यहां पर कड़ाके की ठंड पड़ती है यहां पर घूमने के लिए मार्च से सितंबर तक का महीना सर्वश्रेष्ठ होता है| 

दार्जिलिंग इमेज

दार्जिलिंग कैसे पहुंचे ?

सड़क परिवहन से यहां पहुंचने के लिए किया पश्चिम बंगाल के प्रमुख सड़कों से अच्छे प्रकार से जुड़ा हुआ है एक विश्व प्रसिद्ध पर्यटन स्थल होने के कारण यहां पहुंचना अत्यंत सरल है| 

रेल परिवहन से यहां पहुंचने के लिए सबसे नजदीकी रेलवे स्टेशन सिलीगुड़ी के पास जलपाईगुड़ी है जलपाईगुड़ी राज्य के और देश के बाकी हिस्सों से रेल परिवहन के द्वारा अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है| 

वायुयान के द्वारा डालनी पहुंचने के लिए सिलीगुड़ी इंटरनेशनल एयरपोर्ट नजदीकी एयरपोर्ट है यह देश के साथ-साथ कुछ विदेशी एयरपोर्ट से भी जुड़ा हुआ है यहां से आप आसानी से दार्जिलिंग पहुंच सकते हैं| 

दार्जिलिंग में घूमने लायक जगहें

शिलांग मेघालय

दार्जिलिंग इमेज

यह मेघालय राज्य की राजधानी है शिलांग का नाम एक शक्तिशाली देवता यूज शिलांग के नाम पर रखा गया था इस खूबसूरत हिल स्टेशन को बादलों का घर भी कहा जाता है अपनी खूबसूरत और ऊंची पहाड़ियों के कारण से पूर्व का स्कॉटलैंड भी कहा जाता है यह हिल स्टेशन पर्यटकों को अपनी ओर अपनी खूबसूरती से समय-समय पर आकर्षित करता रहा है

शिलांग के घूमने लायक कुछ प्रमुख पर्यटन स्थल

यहां पर पर्यटन के लिए आज से असीम संभावनाएं हैं अनेक पर्यटन केंद्र यहां पर स्थित है जहां पर पर्यटक और फोटोग्राफर आदि समय-समय पर यहां आते हैं |

इसके अलावा शिलांग में घूमने के लिए उमियम झील, हाथी झरना, शिलांग पीक, डेविड स्कॉट ट्रेल, मावली ,नंद गांव ,स्वीट फॉल्स, ईगल फॉल्स ,जकार फॉल्स, मेघालय राज्य संग्रहालय, खासी हिल्स, पोर्ट कलांग रॉक डेंगी पिक गारो हिल्स, तितली संग्रहालय ,राइनो हेरिटेज म्यूजियम, जयंतिया हिल्स ,आदि कई प्रमुख पर्यटन केंद्र है जहां पर पर्यटक जाकर शिलांग की खूबसूरत यात्रा को रोमांचक बना सकते हैं| 

शिलांग घूमने जाने का सबसे अच्छा समय

खूबसुरत प्राकृतिक नज़ारो के लिए मशहूर शिलांग में घूमने जाने का सबसे अच्छा समय मार्च से लेकर जून तक का माना जाता है क्योंकि इस समय यहां का तापमान 28 डिग्री से लेकर 17 डिग्री तक होता है जो कि एक घूमने के लिए आदर्श परिवेश प्रस्तुत करता है |

शिलांग इमेज फॉर इनफार्मेशन

शिलांग कैसे पहुंचे?

हवाई मार्ग  के द्वारा शिलांग पहुंचने के लिए सबसे निकटतम हवाई अड्डा 12 पानी के पास उमरोई हवाई अड्डा है जो कि यहां से लगभग 28 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है हवाई अड्डे के बाहर से आप प्राइवेट कैब के माध्यम से पूरे शिलांग में भ्रमण कर सकते हैं| 

ट्रेन परिवहन से शिलांग पहुंचने के लिए सबसे निकटतम रेलवे स्टेशन गुवाहाटी है गुवाहाटी से शिलांग की दूरी लगभग 98 किलोमीटर की है स्टेशन से सिवान जाने के लिए नियमित तौर पर बसे और टैक्सी चलती हैं| 

सड़क परिवहन के द्वारा शिलांग पहुंचने के लिए शिलांग गुवाहाटी से सड़क माध्यम से अच्छी प्रकार जुड़ा हुआ है आप यहां टैक्सी और प्राइवेट बसों के द्वारा आसानी से पहुंच सकते हैं| 

मुन्नार हिल स्टेशन (केरल)

दक्षिण भारत में स्थित केरल राज्य में मुन्नार हिल स्टेशन पर्यटकों के लिए विशेष आकर्षण का केंद्र है | यहां पर दक्षिण भारत के सबसे बड़े चाय के बागान पाए जाते हैं इसी वजह से पर्यटक यहां पर खींचे चले आते हैं| 

इसके साथ-साथ यहां पर कई लुप्त प्राय प्राणियों का भी निवास है छोटा हिल स्टेशन होने के बावजूद यहां पर वर्ष भर पर्यटकों का जमघट लगा रहता है |

इन की सुविधा के लिए मुन्नार में विशेष सूचना केंद्र है जो हर जगह उपलब्ध नहीं है अगर आप हिल स्टेशन जाना चाहते हैं तो एक बार मुन्नार हिल स्टेशन जरूर जाए इससे वहां की आपको प्राकृतिक सुंदरता मंत्रमुग्ध कर देगी| 

मुन्नार केरल में घूमने लायक प्रमुख पर्यटन केंद्र

मुन्नार में घूमने वाली जगह में रोज गार्डन, नीलकुरिंजी ,अनामुदी पीक, इको पॉइंट, वाटरफॉल ट्रेडिशनल विनय विलेज, टाटा टी म्यूजियम, पावर हाउस फॉल्स ,एरविकुलम नेशनल पार्क, डैम एंड लेट एलीफेंट अराइवल स्पोर्ट्स लॉकहार्ट गैप, इंडो स्विस डेरी फार्म, ब्लॉसम पार्क, चितिरापुरम बर्ड सेंचुरी, मुन्नार आदि प्रमुख पर्यटन केंद्र हैं| 

इन पर्यटन केंद्रों में फूलों की विशेष आकर्षण वाली खूबसूरती आपको देखने को मिलेगी नीलकुरिंजी में तो आपको नीले कलर के 40 किस्म के अलग-अलग फूल देखने को मिलेंगे यह पर्यटकों को मंत्रमुग्ध कर देते हैं| 

मुन्नार की यात्रा करने के लिए सबसे अच्छा समय

इस खूबसूरत  की यात्रा करने के लिए तो वर्ष भर यहां पर पर्यटक आते हैं परंतु सबसे अच्छा समय यहां का मई से लेकर सितंबर तक का माना जाता है क्योंकि यहां का मौसम अत्यंत सुहावना होता है मुन्नार यात्रा का लुफ्त उठाने के लिए सबसे अच्छा समय है

मुन्नार की यात्रा की पूरी जानकारी

मुन्नार केरल कैसे पहुंचे ?

वायु परिवहन के द्वारा अगर आप मुन्नार पहुंचना चाहते हैं तो यहां का निकटतम एयरपोर्ट कोचीन हवाई अड्डा है जो मुन्नार से लगभग 110 किलोमीटर की दूरी पर है इसके माध्यम से आप कोचिंग पहुंच कर वहां से स्थानीय शासन के द्वारा मुन्नार आसानी से पहुंच सकते हैं| 

रेल परिवहन के द्वारा  मुन्नार  पहुंचने के लिए यहां का निकटतम रेलवे स्टेशन अलुवा रेलवे स्टेशन है जो मुन्नार से लगभग 100 किलोमीटर की दूरी पर है| 

सड़क परिवहन से मुन्नार पहुंचने के लिए यह रास्ता केरल से कई जगहों से अच्छी प्रकार से जुड़ा है आप बस द्वारा आसानी से यहां पहुंच सकते हैं.

खूबसूरत हिल स्टेशन ऊटी (तमिलनाडु)

top hill stations in india in 2020 image

 दक्षिण भारत के तमिलनाडु राज्य में नीलगिरी की खूबसूरत पहाड़ियों में बसा एक अत्यंत सुंदर पर्यटन स्थल है इसे पहाड़ों की रानी भी कहा जाता है ऊटी का पूरा नाम उधगमंडलम है| 

यहां के पर्यटन स्थल अत्यंत लोकप्रिय हैं जिसे देखने के लिए देश के साथ-साथ विदेशों से भी भारी संख्या में पर्यटक यहां आते हैं| 

यहां का शांत माहौल, खूबसूरत पर्यटन केंद्र, ऊंचे ऊंचे पहाड़ की चोटियां, चारों तरफ मौजूद हरियाली यहां पर्यटकों को मंत्रमुग्ध कर देती है ऊटी हनीमून कपल्स के लिए भी एक आदर्श स्थान बन चुका है| 

ऊटी में घूमने लायक प्रमुख पर्यटन केंद्र

यहाँ पर काफी अधिक संख्या में पर्यटन केंद्र हैं जहां पर पर्यटक जाकर वहां की प्राकृतिक सुंदरता का आनंद ले सकते है| 

इन जगहों में ऊटी झील, डोडाबेट्टा चोटी, मुर्गन मंदिर, प्यकारा जलप्रपात, नीलगिरी पर्वत, रेलवे ,गोल क्लब, कलहट्टी झरना ,मुकुर्थी नेशनल पार्क ,रोज गार्डन ,रॉक व्यू प्वाइंट, आदि कई प्रमुख जगह हैं| 

toy train image

ऊटी घूमने जाने का सबसे अच्छा समय

यहाँ वर्ष भर पर्यटकों की भीड़ होती है परंतु यहां आने का सबसे अच्छा समय अप्रैल से नवंबर तक का माना जाता है क्योंकि यहां का मौसम भारत के गर्म क्षेत्रों की अपेक्षा ठंडा होता है| 

वर्षा ऋतु में यहां वर्षा होने के कारण पर्यटकों की संख्या कुछ कम हो जाती है परंतु सितंबर से नवंबर तक फिर पर्यटकों से उटी  पूरी तरह भर जाता है| 

ऊटी कैसे पहुंचे ?

सड़क परिवहन से पहुंचने के लिए ऊटी कई राष्ट्रीय राजमार्ग उसे अच्छी तरह जुड़ा हुआ है तमिलनाडु राज्य परिवहन निगम की बसें यहां पर आपको बेंगलुरु चेन्नई मैसूर आदि शहरों से उठी पहुंचा सकती हैं इसके अलावा कुछ प्राइवेट लग्जरी बसें भी ऊटी पहुंचा देंगे| 

हवाई यतायात  के द्वारा उठी पहुंचने के लिए यहां का निकटतम हवाई अड्डा कोयंबटूर है जो लगभग 20 से 87 किलोमीटर की दूरी पर है कोयंबटूर हवाई अड्डे से आपको कई प्रमुख शहरों से नियमित पुराने चलती हैं| 

रेल परिवहन के माध्यम से उल्टी आने के लिए यहां का निकटतम रेलवे स्टेशन मेट्टूपलायम है जो ऊटी से लगभग 42 किलोमीटर की दूरी पर है इस स्टेशन से चेन्नई कोयंबटूर मैसूर बेंगलुरु जैसे आसपास के शहरों से ट्रेनें जाती हैं| 

इसके अलावा आप टॉय ट्रेन से नीलगिरी पर्वत घने जंगलों अंधेरी सुरंगों से गुजरते हुए भी ऊटी  पहुंच सकते हैं| 

ऊटी में घूमने लायक सबसे अच्छी जगहें 

माउंट आबू “(राजस्थान)

राजस्थान का एकमात्र रेलवे स्टेशन माउंट आबू जोकि अपने चारों ओर फैली प्राकृतिक हरियाली की वजह से यहां का लोकप्रिय हिल स्टेशन है |

माउंट आबू पर्यटन स्थल अरावली की पहाड़ियों में एक ऊंचे पथरीले पठार  पर स्थित है और यह चारों तरफ से जंगलों से घिरा हुआ खूबसूरत हिल स्टेशन है| 

यह रोमांटिक और पारिवारिक दोनों प्रकार के पर्यटकों के लिए आदर्श स्थान है हनीमून कपल्स भी यहां पर अधिक संख्या में आते हैं| 

माउंट आबू में घूमने लायक प्रमुख जगह

माउंट आबू में घूमने वाली प्रमुख जगहों में दिलवाड़ा जैन मंदिर बेहद प्रसिद्ध है इसके अलावा माउंट आबू वन्यजीव अभ्यारण, नक्की झील, गुरु शिखर, धार्मिक स्थल गोमुख मंदिर, ट्रैवल टाइम टोड रॉक, श्री रघुनाथ मंदिर, यूनिवर्सल पीस हॉल, सूर्यास्त प्वाइंट ,अचलगढ़ किला आदि प्रमुख हैं| 

माउंट आबू में घूमने जाने का सबसे अच्छा समय

यह स्थान वर्ष भर पर्यटकों के लिए एक आदर्श मौसम लिए हुए होता है यह जगह चारों तरफ सुंदर और घनी वनस्पतियों से गिरी हुई है|  घूमने के लिहाज से वर्ष भर पर्यटकों के लिए आदर्श स्थान है आप यहां कभी भी आकर यहां की प्राकृतिक सुंदरता को देख सकते हैं| 

माउंट आबू कैसे पहुंचे ?

हवाई मार्ग से माउंट आबू पहुंचने के लिए यहां का निकटतम हवाई अड्डा उदयपुर राजस्थान में जहां से माउंट आबू की दूरी 177 किलोमीटर है यहां से आप माउंट आबू जा सकते है| 

रेल परिवहन से माउंट आबू पहुंचने के लिए यहां का निकटतम रेलवे स्टेशन जयपुर और अहमदाबाद से माउंट आबू की ट्रेन उपलब्ध है आपको जानकारी दे दें कि ट्रेन के माध्यम से आने पर आपको अधिक दिक्कत हो सकती है क्योंकि यहां का रेल मार्ग अत्यधिक लंबा है जिसकी वजह से यात्रा में समय अधिक लगता है| 

सड़क परिवहन के द्वारा माउंट आबू जाने के लिए आपको राज्य परिवहन निगम की बसें यहां पर प्रमुख शहरों से आसानी से मिल जाएंगी विदेशी पर्यटकों के लिए यहां आने का सबसे अच्छा तरीका दिल्ली से उदयपुर के लिए फ्लाइट पकड़करऔर  फिर उदयपुर से आप निजी कार्य या बस के माध्यम से आसानी से माउंट आबू पहुंच सकते हैं| 

माउंटआबू यात्रा की जानकारी

बेस्ट हनीमून प्लेस मसूरी

हनीमून प्रेमियों के लिए मंसूरी किसी स्वर्ग से कम नहीं है यह उत्तराखंड के सबसे रोमांटिक और पॉपुलर हिल स्टेशनों में से एक हैं |

यहां की प्राकृतिक सुंदरता किसी का भी मन मोह लेगी हिमालय पर्वतमाला की तलहटी में बसा यह  खूबसूरत मसूरी पहाड़ों की रानी भी कहा जाता है समुद्र तल से इसकी ऊंचाई 6800 फीट की है |

मसूरी को यमुनोत्री और गंगोत्री जैसे धार्मिक स्थानों के प्रवेश द्वार के रूप में भी जाना जाता है यहां पर आकर पर्यटक अपने आप को प्रकृति के काफी नजदीक पाते हैं| 

मसूरी में घूमने लायक प्रमुख जगहें 

यहां पर घूमने के लिए कई प्रमुख जगह हैं जहां पर आकर पर्यटक यहां की प्राकृतिक सुंदरता देखकर भावविभोर हो जाते हैं| 

इन पर्यटन केंद्रों में यहां के मशहूर बाजार, लाल टिब्बा लेक ,मिस्ट भट्टा फॉल्स, क्लाउड एंड मसूरी पर्यटन स्थल, गन हिल ,द मॉल, विनोद वन्य जीव अभ्यारण, धनोल्टी मौसी फॉल, झारीपनी फॉल्स, कंपनी गार्डन, आदि प्रमुख पर्यटन केंद्र हैं| 

इसके साथ-साथ यहां पर ट्रैकिंग और पैराग्लाइडिंग भी पर्यटकों के लिए कराई जाती है तो रोमांचकारी यात्रा के लिए आपको एक बार मसूरी जरूर आना चाहिए| 

मसूरी घूमने जाने का सबसे अच्छा समय

मसूरी घूमने जाने का मन है तो यहां का सबसे अच्छा समय सितंबर से जून तक का होता है क्योंकि जब पूरे भारतवर्ष में गर्मियां पड़ती है तो मसूरी का तापमान 20 से 12 डिग्री सेंटीग्रेड होता है जो पर्यटकों के लिए आदर्श माहौल तैयार करता है |

इसके अलावा वर्षा ऋतु में मसूरी में अधिक वर्षा होती है इसलिए यहां पर वर्षा ऋतु में पर्यटकों को नहीं जाना चाहिए| 

मसूरी की यात्रा की जानकारी

मसूरी कैसे पहुंचे ?

सड़क मार्ग से मसूरी पहुंचने के लिए मसूरी देहरादून और देश के अन्य हिस्सों से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है यात्री यहां नई दिल्ली और नैनीताल जैसे प्रमुख शहरों से यहां डीलक्स बसों के द्वारा आसानी से आ सकते हैं| 

ट्रेन परिवहन से मसूरी कैसे पहुंचे

ट्रेन से अगर आप मसूरी आना चाहते हैं तो यहां का निकटतम रेलवे स्टेशन देहरादून है जो कि यहां से लगभग 62 किलोमीटर की दूरी पर है यह स्टेशन देश के प्रमुख शहरों से अच्छी प्रकार जुड़ा हुआ है रेलवे स्टेशन के बाहर से मसूरी के लिए नियमित प्राइवेट टैक्सी या प्राइवेट कैब चलती हैं| 

फ्लाइट से अगर आप मसूरी आना चाहते हैं तो यहां देहरादून का जौलीग्रांट हवाई अड्डा मसूरी से लगभग 62 किलोमीटर की दूरी पर है नई दिल्ली हवाई अड्डे से देहरादून जौली ग्रांट हवाई अड्डे के लिए नियमित फ्लाइट से चलती हैं हवाई अड्डे के बाहर से आपको नियमित तौर पर टैक्सी और बस है आपको मसूरी पहुंचा देंगे| 

तो दोस्तों यह रहे भारत के कुछ प्रमुख हिल स्टेशंस जो पर्यटकों के लिए रोमांचकारी और बेहद ही खूबसूरत वातावरण प्रस्तुत करते हैं |

इन हिल स्टेशनों पर पर्यटक काफी अधिक संख्या में पहुंचते हैं उम्मीद है आपको हमारा यह लेख पसंद आया होगा तो आप भी तैयारी कीजिए एक खूबसूरत हिल स्टेशन की यात्रा की 

आपको हमारा  लेख कैसा लगा अपनी राय हमें जरूर दें|

हमारे अन्य लेख 

कुल्लू मनाली में घूमने लायक जगहें 

भारत में हनीमून मनाने के लिए सबसे अच्छी जगहें 

भारत में स्काइडाइविंग करने वाली जगहें 

12 ज्योतिर्लिंग के बारे में सम्पूर्ण जानकारी 

facebook Share on Facebook
Twitter Tweet
Follow Follow us
error

Enjoy this blog? Please spread the word :)