कानपुर में घूमने लायक प्रमुख पर्यटन केंद्र

कानपुर में कई पर्यटन केंद्र हैं जो पर्यटकों का ध्यान अपनी तरफ आकर्षित करते है| यहाँ आपको धार्मिक पर्यटन के साथ साथ प्राकृतिक पर्यटन केंद्र भी मिल जायेंगे| तो आइये दोस्तों एक नज़र डालते है कानपुर के मोस्ट विज़िटेड प्लेसेस पर

Contents hide

1 कानपुर चिड़ियाघर (kanpur zoo)

लगभग 19 हेक्टेयर के विशाल छेत्र में फैला ये चिड़ियाघर कानपुर का सबसे बड़ा पर्यटन केंद्र है|

लगभग १२०० प्रजाति के जीव जन्तुओ को यहाँ पर उनके प्राकृतिक परिवेश में रखा जाता है| जो इस  चिड़ियाघर को अनोखा बनाता है| इस चिड़ियाघर को सन १९७४ में स्थापित किया गया

zoo bird

वन्य जीवो के प्रेमी यहाँ पर जानवरों को उनके परिवेश में देखकर अत्यंत रोमांचित हो जाते है| दर्शको के लिए यहाँ विशेष ट्रेन चलाइ जाती है| इस ट्रेन की सबसे ख़ास बात ये है की ये ट्रेन सभी जीव जन्तुओ के बेहद करीब से जाती है|

इस ट्रेन की टाइमिंग बहुत अच्छी रखी गयी है जिसका समय इस प्रकार है|

सुबह 11 बजे

दोपहर 1 बजे

दोपहर 3 बजे

आप यहाँ पंछियों को विशेष रूप से देख सकते है| इसके अलावा आप यहाँ चीता, बाघ, बब्बर शेर, दरयाई घोडा , जेब्रा, भिन्न प्रकार के हिरन, मगरमच्छ, और भी अनेक प्रकार के जंतु आपको देखने को मिल जायेंगे|

कानपूर रेलवे स्टेशन से इस चिड़ियाघर की दुरी मात्र 13 किमी है|

हमारे लेख

लखनऊ के पर्यटन केंद्र के बारे में

उत्तर प्रदेश के पर्यटन स्थल

ब्लू वर्ल्ड थीम पार्क (blue world theme park)

ब्लू वर्ल्ड थीम पार्क भारत के सबसे बड़े थीम पार्को में गिना जाता है| जो भी पर्यटक यहाँ जाते है वो इस पार्क कि तारीफ़ किये नही थकते| इस पार्क में लगे वाटर राइडिंग, झूले, म्यूजिक थीम वाटर बाथ लोगो का मन मोह लेते है| सैलानियों के लिए यहाँ विशेष किस्म की ड्रेस दी जाती है ताकि वो इस वाटर राइडिंग का आनंद ले सके| इस पार्क में पर्यटक पूरा एक दिन लगता है|

blue

सुबह से शाम तक अनेक प्रकार के मनोरंजक कार्यक्रम और झूले पर्यटकों को रोमांचित कर देते है| कानपुर में आने वाले पर्यटक आये बिना नही रह पाते है | बहुत कम समय में ही ये पार्क कानपुर में ही नही पूरे up में ख्याति प्राप्त क्र चूका है|

इस पार्क को सुबह 9 बजे से शाम 7 बजे तक दर्शको के लिए खोला जाता है |

कानपुर सेन्ट्रल से इस पार्क की दुरी केवल 23 किमी हैं| और आसानी से आप यहाँ कैब लेकर पहुच सकते है|

3 मोतीझील पार्क(motijheel park)

motijh

कानपुर का बेस्ट पिकनिक स्पॉट मोतीझील को भी माना जाता है| कानपुर के हर्ष नगर में स्थित ये खुबसूरत पार्क पर्यटकों के आकर्षण का केंद्र है| यहाँ पर म्यूजिक फव्वारा सुन्दर झूले मार्निंग वाक् के लिए रिंग और सुन्दर बगान और बीचोबीच में स्थित तालाब दर्शको को अत्यंत प्रिय लगते है|

motijheel

सुबह और शाम को यहाँ काफी संख्या में लोग पिकनिक मनाने आते है| यहाँ का वातावरण अत्यंत स्वच्छ होता है| सुबह के समय यहाँ पास के निवासी इस पर्क्ल में बने रेसिंग ट्रेक पर रंनिंग और एक्सरसाइज आदि करते है| इस पार्क में बच्चो के लिए विशेष रूप सेझुले लगाये गये है|

कानपुर स्टेशन से इस पार्क की दुरी 10 किमी के करीब है| पर्यटक यहाँ कानपुर के किसी भी छेत्र से आसानी से पहुच सकते है|

पार्क खुलने का समय

सुबह 6 से 10

शाम 4 से 9 बजे तक

4 जेड स्कवैर शोपिंग माल (shoping mall zsqair)

उत्तर प्रदेश के सबसे बड़े शोपिंग माल को हम z स्क्वेयर शोपिंग माल के नाम से जानते है| यह शापिंग माल बहुत बड़ा और बहुत सुन्दर शापिंग माल है| इस शापिंग माल के अन्दर ही आपको सिनेमा, गेम्स, विभिन्न प्रकार के रेस्टोरेंट्स, और विशाल रेंज के साथ शापिंग की सुविधाए है|

इस विशाल जेड स्कवैर शापिंग माल को जैज ट्रेनर्ष ग्रुप ने बनवाया है| इस कंपनी की कानपुर के आस पास चमड़े की बड़ी फैक्ट्री है| इस माल में आपको लगभग एक लाख से भी ज्यादा प्रोडक्ट शापिंग के लिए मिलेंगे| इसकी खूबसूरती का अंदाजा इसी बात से लगाया जाता है की यहाँ हमेशा अच्छी संख्या में लोग रहते है| यह माल हमेशा लोगो से भरा रहता है|

यह माल शहर के बिच में बना हुआ हुआ है| इस माल को लगभग 5 एकड़ के विशाल छेत्र में बनाया गया है इस माल में कानपुर आने वाले पर्यटक भी जरुर आते है| ओर यहाँ गेम्स शापिंग और सिनेमा का आनंद लेते है|

कानपूर सेंट्रल से इस माल की दुरी मात्र 6 किमी है और चकेरी हवाई अड्डे से मात्र 17 किमी की दुरी पर है|

खुलने का समय

सुबह 10 बजे से रात 11 बजे तक

5 बिठूर(bithoor)

बिठूर उत्तर प्रदेश ही नही बल्कि भारत का भी प्रसिद्ध पर्यटन स्थल है| बिठूर को अनेक प्राचीन धार्मिक गतिविधियो के साथ साथ प्रथम स्वतंत्रता संग्राम के लिए भी जाना जाता है| गंगा नदी के किनारे बसा ये नगर अपने आप में अनोखा है| हिन्दू धर्म के लिए यह स्थान तीर्थ के समान माना गया है| क्युकी यहाँ पर रामायण के रचनाकार ऋषि वाल्मीकि का आश्रम है जहा सीता जी ने अपने दोनों बच्चो लव और कुश को जन्म दिया| इस के आसपास आपको पर्यटन के लिए बहुत जगहे मिल जाती है|

आप यहाँ ध्रुव टीला, ब्रह्मावर्त घाट,पत्थर घाट,गणेश मंदिर,सीता रसोई,नानाराव पार्क, सुधांशु आश्राम, गंगा बैराज भी घूम सकते है|  आप यहाँ सेंट्रल स्टेशन से आसानी से आ सकते है| रेलवे स्टेशन से 24 किमी की दुरी पर स्थित है| और लखनऊ से 85 किमी की दुरी पर है |

6 सुधांशु जी महाराज आश्रम (shudhanshu ji maharaj ashram)

बिठुर मार्ग में स्थित ये विशाल आश्राम पर्यटकों के आकर्षण का केंद्र है| यह विशाल आश्राम और मंदिर हिन्दू संत श्री सुधांशु जी महाह्राज के ट्रस्ट के द्वारा निर्माण किया गया है| मंदिर परिसर में मुख्य रूप से राधा कृष्णा की मंत्र मुग्ध क्र देने वाली मुर्तिया स्थापित है|

 परिसर में ही बना हुआ एक विशाल पर्वत है जिस पर शिव परिवार की प्रतिमाये विराजमान है| इन्ही प्रतिमाओं के बेहद कर्रीब से एक झरना गिरता है जो अत्यंत मनमोहक लगता है| पर्यटकों के लिए यहाँ विशेष वातानुकूलित होटल भी है| और परिसर में चारो और सुन्दर बगान है| पर्वत में ही एक अत्यंत सुन्दर गुफा है| इस गुफा में सुंदर देवी देवताओं की झाकिया है जो लोगो को आकर्षित कर देती है|

कानपुर रेलवे स्टेशन से यहाँ की दुरी 22 किमी है और यहाँ आप आसानी से पहुच सकते है|

खुलने का समय

सुबह 6 से 10 बजे तक

शाम 5 बजे से 8 बजे तक

7 राधा माधव मंदिर ( iskan temple)

राधा माधव मंदिर जिसे इस्कान टेम्पल भी कहा जाता है| बिठूर रोड पर ही मैनावती मार्ग पर बना हुआ अत्यंत सुंदर मंदिर है| इसे विस्व प्रसिद्ध इस्कान संस्था ने बनवाया है| काले पत्थर से बनी राधा कृष्णा की सुंदर मूर्ति पर्यटकों का मन मह लेती है|

temple

इस मंदिर को सफ़ेद संगमरमर से बहुत खुबसूरत तरीके से बनाया गया है| इस मंदिर में गौ सेवा को अधिक महत्व दिया जाता है| ये मंदिर सफ़ेद पत्थरो से बनाया गया है जो आधुनिक शिल्पकला का एक नायाब नमूना है| आपको यहाँ श्री कृष्ण के सम्मान में बजने वाले मनमोहक भजन सुनने को मिलते रहते है| संध्या आरती में यहाँ भक्तो की भीड़ उमड़ पडती है|

यहाँ परिसर में ही गोविंदा रसोई और एक धार्मिक वस्तुवो की दूकान है| जहा आपको गोविंदा से सम्बंधित चीजे ही मिलती है| मंदिर परिशर में सुन्दर बगान है|

कानपुर रेलवे स्टेशन में इस मंदिर की दुरी 19 किमी है और यहाँ कानपुर के किसी भी छोर से  आसानी से पहुचा जा सकता है|

Leave a comment

error

Enjoy this blog? Please spread the word :)