रूमी दरवाजा लखनऊ में क्यों प्रसिद्ध है, आइये जाने ?

रूमी दरवाजा लखनऊ

image credit by dreamstime

रूमी दरवाजा एक प्रकार की इमारत है जिसे दरवाजे का स्वरूप दिया गया है। मुगल वास्तुकला का अनूठा स्वरूप रूमी दरवाजे में आसानी से दिखाई देता है। रूमी दरवाजे के विषय में कई प्रकार की बातें होती रहती हैं। इसके निर्माण में कुल कितनी लागत आई?,  इस विषय में कई विशेषज्ञों की अपनी अपनी अलग अलग राय है।

आइए जाने हम भी रूम में दरवाजे के विषय में कुछ महत्वपूर्ण जानकारियां

रूमी दरवाजा का निर्माण( Rumi darwaja construction in hindi )

रूमी दरवाजा सन 1783 ईस्वी में लखनऊ के आसफुद्दौला ने अकाल राहत योजना के अंतर्गत कराया था। रूमी दरवाजा की कुल ऊंचाई 60 फीट की है। इस विशाल दरवाजे को बनाने में लगभग 3 साल का समय लगा। अंत में यह सन 1786 ईसवी में बनकर तैयार हो गया। बड़ा इमामबाड़ा के पास स्थित यह दरवाजा पर्यटकों के लिए किसी आश्चर्य से कम नहीं है। शाम के समय यहां पर स्थानीय लोगों के साथ-साथ विदेशी पर्यटकों का भी आना जाना होता रहता है।

रूमी दरवाजा की निर्माण शैली( Rumi darwaja construction technique in hindi )

रोमी दरवाजे के निर्माण शैली के विषय में प्रसिद्ध वास्तु कारों का यह तथ्य है कि रूमी दरवाजा की निर्माण शैली मुगल और रोमन शैली से काफी मिलती जुलती है। लखनऊ के नवाब ने इस विशाल दरवाजे का निर्माण बहुत ही सुंदरता से करवाया है। दरवाजे का निर्माण का श्रेय बड़ा इमामबाड़ा के वास्तुकार किफायत उल्लाह को जाता है। किफायत उल्लाह ने ही बड़ा इमामबाड़ा शाही बावली, भुल भुलैया आदि लखनऊ की प्रमुख इमारतों का निर्माण करवाया था। उनकी वास्तुकला अद्वितीय थी।

रूमी दरवाजा इमेज
image credit by gettyimage

रूमी दरवाजा के विषय में रोचक जानकारी ( some interesting facts of Rumi darwaja in hindi)

  • रूमी दरवाजा को तुर्किश गेट भी कहा जाता है क्योंकि तुर्की के महाराज के महल का प्रवेश द्वार भी इसी गेट से मिलता जुलता है।
  • रूमी दरवाजा को लखनऊ में आए भयंकर अकाल की वजह से अकाल पीड़ितों की सहायता के लिए बनवाया गया था ।
  • रूमी दरवाजा की कुल ऊंचाई 62 फीट की है जिसके ऊपर छतरी नुमा सुंदर आकृतियां बनी हुई है।
  • 1786 में बनकर तैयार हुए रूमी दरवाजा की कुल लागत उस समय दस लाख के आसपास आंकी गई थी।
  • यह कहा जाता है कि कभी इस दरवाजे के पीछे चारदीवारी हुआ करती थी जिनमें अंग्रेजों की कब्रे स्थित थीं।
  • रूमी दरवाजा के निर्माण में लाखोरी ईट और सिर्फ बादामी चूने का इस्तेमाल किया गया था। जो दरवाजे की मजबूती को आज भी लोगों के सामने रखे हुए हैं।
  • दरवाजे के दोनों तरफ तीन मंजिला बेहद खूबसूरत परकोटा बना हुआ है। जिसके सिर ऊपर 8 पहलू वाले बुर्ज हैं जिनके ऊपर कोई भी गुंबद नहीं बना है।
  • इसकी खास सजावट और बनावट की वजह से इसे हिंदू मुस्लिम शैली का भी माना जाता है।
  • यह दरवाजा प्रसिद्ध कांस्टेंटिनॉपल दरवाजों की तरह ही दिखाई देता है।

ये भी पढ़े

लखनऊ में स्थित छोटा इमामबाड़ा जिसकी खूबसूरती ताजमहल के समान मानी जाती है?

बड़ा इमामबाड़ा जिसका निर्माण किसी आश्चर्य से कम नहीं

रूमी दरवाजा फोटो

रूमी दरवाजा खुलने का समय( opening time of rumi darwaja in hindi)

रूमी दरवाजा पूरे 24 घंटे पर्यटकों के लिए और आगंतुकों के लिए खुला रहता है। इसका प्रमुख कारण यह है कि या दो सड़कों को जोड़ता है।

रूमी दरवाजा घूमने के लिए प्रवेश शुल्क ( entry fees of Rumi Darwaja in hindi )

निशुल्क

रूमी दरवाजा लखनऊ कैसे पहुंचे?( how to reach Rumi Darwaja lucknow in hindi)

रूमी दरवाजा पहुंचने के लिए आप लखनऊ के किसी कोने से हुसैनाबाद रोड लाजपत नगर कॉलोनी के लिए सिटी बस ए प्राइवेट टैक्सी और कैप के माध्यम से आसानी से रूमी दरवाजा पहुंच सकते हैं।

रूमी दरवाजा  फोटो

रूमी दरवाजा कहां स्थित है?(Where is Rumi Darwaja located in hindi)

रूमी दरवाजा 17/11 हुसैनाबाद रोड, लाजपत नगर, मच्छी भवन, लखनऊ, उत्तर प्रदेश में स्थित है।

लखनऊ के साथ-साथ भारत और विश्व के प्रसिद्ध पर्यटन स्थलों के बारे में जानकारी के लिए आप हमारी वेबसाइट पर जाकर संपूर्ण जानकारी हासिल कर सकते हैं। जानकारी के साथ ही आप हमारी वेबसाइट के माध्यम से फ्लाइट टिकट और होटल्स भी बुक कर सकते हैं। यहां पर आप सभी फ्लाइट ओर hotel कंपनियों के सस्ते रेट travelpayout के माध्यम से देख सकते हैं।

आपको हमारा लेख कैसा लगा अपनी राय अवश्य दें और हमारे Facebook page पर जरूर जुड़े।

अन्य लेख

राधाकृष्ण मंदिर /जे के मंदिर कानपुर का खुबसूरत मंदिर

कानपुर में स्थित मां तपेश्वरी देवी मंदिर जिनके दर्शन मात्र से निसंतान भी संतान प्राप्त करते हैं

ताजमहल के बारे में कुछ अनोखी बाते

लखनऊ में घूमने की सबसे अच्छी जगहें

Leave a comment